किताबों के अंदर की दुनिया

एक बहुत बड़ी दुनिया है, जो किताबों के अंदर है। वहां संस्कार हैं, संस्कृति है। ज्ञान है, विज्ञान है। इतिहास है, भूगोल है। इन छुटिट्यों में फुर्सत के पलो में किताबों में बंद दुनिया के करीब जाएं।

स्कूल की छुट्टयां चल रही हैं। कुछ महीनों के लिए बच्चे भी खेलने-कूदने के लिए आजाद हैं। लेकिन कुछ चीजों की पहल करके, आप उनमें किताब पढ़ने की आदत भी डाल सकते हैं। इससे धीरे-धीरे उन्हें किताबों के महत्व का पता चलेगा और इससे उनके व्यक्तित्व का भी विकास होगा ।

उपहार के रूप में

अपने परिवार के सदस्यों और दोस्तों से कहें कि बच्चों को उनके जन्मदिवस पर उपहार के रूप में किताब दें। इससे बच्चे किताब को पढ़ने के लिए प्रोत्साहित होंगे। यदि बच्चे को 'स्टार वॉर्स' जैसी फिल्में देखना पसंद है, तो इस तरह की फिल्मों पर कोई किताब खरीदकर बच्चों को दे सकते हैं। इससे उनमें किताब पढ़ने को लेकर दिलचस्पी बनी रहेगी।

तेज आवाज में पढ़ना

कोशिश करें कि रोजाना लगभग 10 मिनट कोई किताब पढ़ने के लिए निकालें। रात के समय जब बच्चे सोने के लिए जा रहे हों, तब किताब को तेज आवाज में पढ़ें। इससे बच्चों में पढ़ने को लेकर जिज्ञासा जागेगी और हो सकता है, वे आपसे कोई सवाल भी पूछें। इससे बच्चों को सही उच्चारण का भी पता चलेगा।

शुरुआत से ही आदत

बच्चों को किताबों से जितना जल्दी जोड़ दिया जाए, उतना अच्छा है। बाजार में छोटे बच्चों के लिए अलग- अलग प्रकार की किताबें मौजूद हैं, जिन्हें देखकर बच्चों में किताबों के प्रति जिज्ञासा बढ़ सकती है। जैसे- क्लॉथ बुक्स, टेक्सचर बुक्स, बोर्ड बुक्स और वॉटर फ्रूफ बुक्स। इन किताबों के माध्यम से बच्चों को अच्छा अनुभव होता है और खेल-खेल में उनका सामना किताबों की दुनिया से हो जाता है।

आसपास हो किताबें

इस बात का ध्यान रखें कि|घर में जिस जगह आप किताबें रखते हैं, वह जगह बहुत ऊंची न हो। इससे अगर बच्चों को किसी किताब को पढ़ने का मन होगा, तब वह ऐसा नहीं कर पाएंगे। यदि आपके पास पर्याप्त जगह है, तो पढ़ाई के लिए एक जगह जरूर बनाएँ। घर में किसी एक आरामदायक जगह पर कुछ तकियों और किताबों की एक छोटी-सी अलमारी से बच्चों के लिए पढ़ाई का अच्छा माहौल बनाया जा सकता है।

बच्चों के प्रेरणास्रोत बनें

अगर आपके हाथ में कोई किताब है, तो आपको देखकर बच्चे भी किताब पढ़ने के लिए प्रोत्साहित होंगे। अपने किसी पसंदीदा लेखक की किताब लें और पढ़ें।

पुस्तकालय ले जाएं

अपने शहर की लाइब्रेरी की सदस्यता लें। हफ्ते में एक बार बच्चों को लाइब्रेरी ले जाएं। वहाँ अलग-अलग लेखकों की किताबों को ढूंढें और इस दौरान अपने बच्चे को साथ रखें। बच्चों से उनके पसंद की किताबें चुनने के लिए कहें और उन्हें पढ़ने के लिए घर लाएं। इस प्रकार बच्चों को नई-नई किताबों और नए-नए विषयों के बारे में पता चलेगां। अपने बच्चों को उनके दोस्तों के बीच किताबों के आदान-प्रदान की आदत डालें। इससे आपके बच्चे और उसके दोस्तों के बीच एक अलग तरह की गतिविधि का विकास होगा।